Vishwa Bhugol ke Important Questions 1

Vishwa Bhugol ke Important Questions 1 : ब्रह्मांड , निहारिका , जोवियन ग्रहों , एडविन हबल

1.ब्रह्मांड की उत्पत्ति से संबंधित बिग बैंग सिद्धांत के पक्ष में एडविन हब्बल ने क्या प्रमाण दिया था?

**एडविन हबल ने प्रमाण दिया था कि ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है अर्थात आकाशगंगाएँ एक दूसरे से दूर हो रही हैं।

2.निहारिका या नेबुला किसे कहते हैं? 

**निहारिका या नेबुला से तात्पर्य गैस एवं धूल तथा अन्य पदार्थों के घूमते बादल से है।

3.क्षुद्र ग्रह किसे कहते हैं?

**सौरमंडल में वाह्य एवं पार्थिव ग्रहों के बीच में लाखों छोटे पिंडों की एक पट्टी है उसे क्षुद्र ग्रह कहते हैं ।

4.जोवियन ग्रहों पर आज भी हाइड्रोजन व हीलियम गैसों के बने रहने का प्रमुख कारण क्या है?

**जोवियन ग्रह, सूर्य से बहुत दूर थे अतः सौर वायु का प्रभाव जोवियन ग्रहों तक नहीं पड़ा ।

5.धूमकेतु क्या है?

**धूमकेतु जमे हुए गैस, पत्थर और धूल से बनी हुई कॉस्मिक गेंद हैं, जो सूर्य के चारों ओर परिक्रमा कर रही हैं।
जब ये सूर्य के निकट आ जाते हैं तो बहुत गर्म हो जाते हैं जिसके कारण विशालकाय चमकती हुई पिंड का निर्माण हो जाता है |सौरमण्डल के छोर पर बहुत ही छोटे–छोटे अरबों पिण्ड विद्यमान हैं, जो धूमकेतु (Comet) या पुच्छल तारा कहलाते हैं।
ऐसा अनुमान है कि सूर्य के कुइपर बेल्ट में बिलियन कि संख्या में धूमकेतु विराजमान हैं।

6 .पृथ्वी के निर्माण प्रक्रिया के प्रारंभिक वर्षों में इस पर किन गैसों की प्रधानता थी?

**हाइड्रोजन व हिलियम ।

7.पृथ्वी पर, जीवन के विकास का प्रारंभ, आज से कितने वर्ष पहले प्रारंभ हुआ?

**लगभग 3.8 अरब वर्ष पूर्व ।

8.सर जॉर्ज डार्विन ने, चंद्रमा की उत्पत्ति से संबंधित किस सिद्धांत का प्रतिपादन किया?

**डम्बल सिद्धांत।

9.निम्नलिखित में कौन-सी अवधि सबसे लंबी है?

**इओन महाकल्प कल्प युग

10.प्रारंभिक काल में पृथ्वी के धरातल का स्वरूप कैसा था?

**प्रारंभिक काल में पृथ्वी चट्टानी, गर्म और वीरान ग्रह थी, जिसका वायुमंडल हाइड्रोजन और हीलियम से बना हुआ था।

11.पृथ्वी की त्रिज्या कितनी है?

**पृथ्वी की त्रिज्या 6370 किलोमीटर है ।

Vishwa Bhugol ke Important Questions 1

12.भूगर्भ के बारे में जानने के प्रमुख अप्रत्यक्ष स्रोत कौन-कौन से हैं?

**पृथ्वी के पदार्थों के गुण जैसे तापमान, दबाव, घनत्व।

13.भूकंपीय तरंगें उत्पन्न होने का प्रमुख कारण क्या है?

**भूगर्भ में दरारें बन जाती हैं (जिन्हें भ्रंश भी कहते हैं) और उनसे ऊर्जा मुक्त होती है जिससे तरंगें निकलती हैं। यह तरंगें सभी दिशाओं में फैल कर भूकंप का कारण बनती है।

14.भूकंप का अवकेंद्र किसे कहते हैं?

**भूगर्भ का वह स्थान जहां से उर्जा निकलती है और अलग-अलग दिशाओं में जाती है उसे अवकेंद्र या उद्गम केंद्र भी कहते हैं ।

15.भूकंपीय छाया क्षेत्र किसे कहते हैं?

**भूपटल  का वह क्षेत्र जहां कोई भी भूकंपीय तरंग भूकंपमापी पर अभिलेखित नहीं होती है उसे छाया क्षेत्र कहते हैं ।

16.भूकंप तीव्रता को नापने के लिए किस स्केल का प्रयोग किया जाता है?

**रिक्टर स्केल , राँसी-फेरल स्केल ,मरकेली स्केल  Vishwa Bhugol ke Important Question 1

17.भूपर्पटी की औसत मोटाई कितनी है?

**भूपर्पटी की औसत मोटाई महासागरों के नीचे 5 किलोमीटर, महाद्वीपों के नीचे लगभग 30 किलोमीटर, और हिमालय के नीचे यह लगभग 70 किलोमीटर है।

18.एस्थेनोस्फीयर या दुर्बलता मंडल किसे कहते हैं?

**पृथ्वी के आंतरिक भाग और मेंटल का ऊपरी भाग को एस्थेनोस्फीयर या दुर्बलता मंडल कहते हैं।

19.पृथ्वी का क्रोड मुख्यतः किन पदार्थों से बना है?

**क्रोड मुख्यतः भारी पदार्थों जैसे निकेल व लोहे से बना है ।

20.भारत का दक्कन ट्रैप किस तरह के ज्वालामुखी का उदाहरण है?

**बेसाल्ट लावा प्रवाह का उदाहरण है।

21.वैज्ञानिकों के अनुसार ,पृथ्वी की आयु कितनी है?

**4.6 अरब वर्ष

22.सिस्मोग्राफ किसे कहते हैं? इसका प्रयोग किस लिए किया जाता है?

**सिस्मोग्राफ एक यंत्र है जिसके माध्यम से भूकंप की गति तथा भूकंपीय तरंगें मापी जाती है।

23.महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धांत का प्रतिपादन किसने और कब किया?

**इस सिद्धांत का प्रतिपादन जर्मन मौसम वैज्ञानिक अल्फ्रेड वेगनर ने 1912 में की थी।

24.पैंजिया एवं पैंथलासा क्या है ?

**पैंजिया सभी महाद्वीपों का एक अविभाजित खंड का नाम था। पैंथलासा, पैंजिया के चारों ओर के विशाल सागर का नाम है।

25.मध्य महासागरीय कटक क्या है?

**मध्य महासागरीय कटक, अटलांटिक महासागर के मध्य में उत्तर से दक्षिण आपस में जुड़े हुए पर्वतों की श्रृंखला है जो महासागरीय जल में डूबी हुई है ।

26.रिंग ऑफ फायर किसे कहते हैं?

**प्रशांत महासागर के किनारे सक्रिय ज्वालामुखी की श्रृंखला पाई जाती है जिसे रिंग ऑफ फायर या अग्नि वलय कहते हैं ।

27.प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत में प्लेट से क्या तात्पर्य है?

**महाद्वीपीय एवं महासागरीय स्थलमंडलों से मिलकर बना ठोस चट्टान,जो एक दृढ़ इकाई के रूप में विद्यमान है, विशाल और अनियमित आकार का खंड है।

28.पेट्रोलॉजी क्या है?

**पेट्रोलॉजी शैलों का विज्ञान है जिसमें खनिजों की संरचना, बनावट, गठन, स्रोत व दूसरी शैलों के साथ उनके संबंध का अध्ययन किया जाता है।

29.प्लेसर निक्षेप से क्या तात्पर्य है?

**नदियों की तली में खनिजों का अवसाद के रूप में निक्षेपण प्लेसर निक्षेप कहे जाते हैं।

30.टिलाइट से क्या अभिप्राय है? ये कहां-कहां पाए जाते हैं?

**टिलाइट वे अवसादी चट्टानें हैं, जो हिमानी निक्षेपण से निर्मित होती हैं। गोंडवाना श्रेणी के आधार तल में टिलाइट पाए जाते हैं।
इसी क्रम के प्रतिरूप भारत के अतिरिक्त, दक्षिणी गोलार्ध में अफ्रीका, फ़ॉकलैंड द्वीप मेडागास्कर, अंटार्कटिका और ऑस्ट्रेलिया में मिलते हैं।

31.लैमूरिया से आप क्या समझते हैं?

**लैमूर प्रजाति के जीवाश्म भारत, मेडागास्कर व अफ्रीका में मिलते हैं। कुछ वैज्ञानिकों ने इन तीनों खण्ड  को जोड़कर एक सतत स्थलखण्ड की उपस्थिति को स्वीकार किया है जिसे वे लैमूरिया कहते हैं।

32.कायांतरित शैलो के निर्माण का मुख्य कारण क्या है?

**दाब, आयतन एवं तापमान में परिवर्तन की प्रक्रिया के फलस्वरूप ही कायांतरित शैलो का निर्माण होता है।

33.माइका नामक खनिज मुख्यतः किस उपयोग में आते हैं?

**माइका का उपयोग मुख्यतः विद्युत उपकरणों में होता है।

34.अग्निय शैलों के उदाहरण दें?

**ग्रेनाइट, बेसाल्ट, पेग्माटाइट, डायोराइट और गैब्रो

35.मैग्मा के शीघ्र या देर में ठंडे होने का शैलों पर क्या प्रभाव पड़ता है?

**पिघले हुए पदार्थों के धीरे-धीरे ठंडा होने पर खनिजों के कण बड़े होते है जबकि आकस्मिक रूप से ठंडे होने पर कण छोटे एवं चिकने होते हैं ।

36.क्वार्ट्ज किस खनिज का महत्वपूर्ण घटक है और इसका क्या उपयोग है?

**क्वार्ट्ज ग्रेनाइट का महत्वपूर्ण घटक है और इसका उपयोग रेडियो व राडार में होता है ।

37.शिलीभवन की प्रक्रिया से क्या तात्पर्य है?

**अपक्षयित पदार्थों को अपरदन के कारक (जैसे नदी, पवन,हिमनद) निक्षेपित करते हैं। संघनता एवं दबाव के कारण यह संचित पदार्थ शैलों में बदल जाते हैं। यह प्रक्रिया शिलीभवन कहलाती है ।

38.सभी खनिजों का मूल स्रोत क्या है?

**पृथ्वी के आंतरिक भाग में पाया जाने वाला मैग्मा ही सभी खनिजों का मूल स्रोत है ।

Vishwa Bhugol ke Important Questions 1

One thought on “Vishwa Bhugol ke Important Questions 1

Leave a Reply

Your email address will not be published.