एलन मस्क जेफ़ बेज़ोस और बिल गेट्स के ट्विटर अकाउंट हैक :क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की चर्चा क्यों हो रही है ?

एलन मस्क जेफ़ बेज़ोस और बिल गेट्स के ट्विटर अकाउंट हैक :क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की चर्चा क्यों हो रही है ?

एलन मस्क जेफ़ बेज़ोस और बिल गेट्स के ट्विटर अकाउंट हैक : हैकर्स ने ऐसा क्यों किया और उनको इससे क्या हासिल हुआ ? क्रिप्टोकरेंसी की चर्चा क्यों हो रही है ?

  • एलन मस्क, जेफ़ बेज़ोस, बिल गेट्स, कानये वेस्ट ,बराक ओबामा, बाइडन, उबर और एपल के अकाउंट भी हैक किये गए |
  • इस हैकिंग को ‘बिटक्वाइन स्कैम‘ कहा जा रहा है |
  • जो अकाउंट हैक किये गए, उनके ज़रिये ट्वीट कर लोगों से बिटक्वाइन में दान माँगा गया |
  • कुछ ही देर में हैकरों को सैकड़ों लोगों ने एक लाख डॉलर से अधिक बिटक्वाइन भेज दिए थे |
  • इस ऑनलाइन हमले का उद्देश्य, कम से कम समय में जितना हो सके उतना अधिक पैसा बनाना था |

बिटकॉइन (Bitcoin) क्या है ?

  • बिटकॉइन (Bitcoin) एक क्रिप्टोकरेंसी है |
    • यह एक डिजिटल करेंसी या वर्चुअल करेंसी है |
    • दूसरी करेंसी की तरह इसे छापा नहीं जाता है | इसे आभासी यानी वर्चुअल करेंसी कहा जाता है |
    • ऑनलाइन पेमेंट के अलावा इसको डॉलर और अन्य मुद्राओं में भी एक्सचेंज किया जा सकता है |
    • आज इसका इस्तेमाल ग्लोबल पेमेंट के लिए किया जा रहा है |
    • बिटकाइन की ख़रीद और बिक्री के लिए एक्सचेंज भी हैं |
    • दुनियाभर के बड़े बिजनेसमैन और कई बड़ी कंपनियां वित्तीय लेन देन में इनका इस्तेमाल कर रही हैं |
    • भारत में रुपया, अमरीका में डॉलर, ब्रिटेन में पाउंड आदि भौतिक करेंसी होती हैं जिसे आप देख सकते हैं, छू सकते हैं और नियमानुसार किसी भी स्थान या देश में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं |
  • इसे सातोशी नकामोति ने 2008 में बनाया था |
    • यह नहीं पता चल पाया है कि सातोशी नकामोति कौन है? कोई इंसान है या संस्था? कहां का है?
  • इसे पहली बार 2009 में ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में जारी किया गया था |
  • बिटक्वाइन के बारे में दो बातें सबसे अहम हैं –
    • एक, बिटक्वाइन डिजिटल यानी इंटरनेट के ज़रिए इस्तेमाल होने वाली मुद्रा है |
    • दूसरी, इसे पारंपरिक मुद्रा के विकल्प के तौर पर देखा जाता है | 
  • बिटक्वाइन (Bitcoin) ऑनलाइन मिलता है |
  • बिटक्वाइन (Bitcoin) को कोई सरकार या सरकारी बैंक नहीं छापते है |
  • एक्सपीडिया और माइक्रोसॉफ़्ट जैसी कुछ बड़ी कंपनियाँ बिटक्वाइन में लेन-देन करती हैं |
    • इन सब प्लेटफ़ॉर्म पर यह एक वर्चुअल टोकन की तरह काम करता है |
  • बिटक्वाइन (Bitcoin) का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल निवेश के लिए किया जाता है | 
एलन मस्क जेफ़ बेज़ोस और बिल गेट्स के ट्विटर अकाउंट हैक
एलन मस्क जेफ़ बेज़ोस और बिल गेट्स के ट्विटर अकाउंट हैक

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) क्या होती है ?

  • क्रिप्टो का मतलब ऐसी चीज जो रियल न हो |
  • क्रिप्टो करेंसी एक ऐसी मुद्रा है जो कंप्यूटर एल्गोरिद्म पर बनी होती है |
  • यह सिर्फ इंटरनेट और कंप्यूटर पर उपलब्ध होती है |
  • यह एक स्वतंत्र मुद्रा है, जिसका कोई मालिक नहीं होता है |
  • डिजिटल या क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) इंटरनेट पर चलने वाली एक वर्चुअल करेंसी हैं | 
  • बाज़ार में बिटक्वाइन के अलावा भी अन्य क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) उपलब्ध हैं जिनका इस्तेमाल आजकल अधिक हो रहा है | 
    • जैसे- रेड क्वाइन, सिया क्वाइन, सिस्कोइन, वॉइस क्वाइन और मोनरो आदि | 
    • दुनिया में करीब 90 से अधिक वर्चुअल करेंसी चलन में हैं |
  • साल 2018 में भारतीय रिज़र्व बैंक ने विनियमित संस्थाओं को क्रिप्टोकरेंसी में कारोबार नहीं करने के निर्देश जारी किए थे |
    • इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया ने भारतीय रिज़र्व बैंक के सर्कुलर पर आपत्ति जताते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाख़िल की थी |
    • जिस पर सुनवाई के बाद, मार्च 2020 में भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने वर्चुअल करेंसी के माध्यम से क्रिप्टोकरेंसी में लेन-देन की इजाज़त दे दी है | 
एलन मस्क जेफ़ बेज़ोस और बिल गेट्स के ट्विटर अकाउंट हैक : हैकर्स ने ऐसा क्यों किया और उनको इससे क्या हासिल हुआ ? क्रिप्टोकरेंसी की चर्चा क्यों हो रही है ?
क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency):एलन मस्क जेफ़ बेज़ोस और बिल गेट्स के ट्विटर अकाउंट हैक : हैकर्स ने ऐसा क्यों किया और उनको इससे क्या हासिल हुआ ? क्रिप्टोकरेंसी की चर्चा क्यों हो रही है ?

बिटकॉइन कैसे काम करती है ?

  • बिटकॉइन (Bitcoin) के लेनदेन का एक लेज़र बनाया जाता है | 
    • आप बिटकॉइन को अपने कंप्यूटर या मोबाइल फोन पर बिटकॉइन वॉलेट के रूप में इंस्टॉल कर सकते हैं |
    • इससे आपका पहला बिटकॉइन एड्रेस बनेगा और जरूरत पड़ने पर आप एक से ज्यादा एड्रेस भी बना सकते हैं |
    • अब आप अपने मित्रों को अपना बिटकॉइन एड्रेस दे सकते हैं |
    • इसके बाद आप उनसे भुगतान ले या उन्हें भुगतान कर भी सकते हैं |
    • कम्प्यूटर नेटवर्कों के जरिए इस मुद्रा से बिना बैंक के ट्रांजेक्शन किया जा सकता है |
    • इस करेंसी को डिजिटल वॉलेट में भी रखा जाता है | 
  • दुनिया में लाखों व्यापारी भी बिटकॉइन से लेन देन करते हैं | हालांकि किसी भी केंद्रीय बैंक ने अभी इसको मान्यता नहीं दी है |
  • बिटकॉइन का इस्तेमाल ब्लैकमनी, हवाला, ड्रग्स की खरीद-बिक्री, टैक्स की चोरी और आतंकवादी गतिविधियों में बड़े पैमाने पर होता है | 

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) के फ़ायदे और नुकसान

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) के कई फ़ायदे हैं : 

  • पहला, डिजिटल करेंसी होने के कारण धोखाधड़ी की गुंजाईश न के बराबर है | इसके ग़ायब होने या चोरी होने का खतरा नहीं होता है |
  • बिटकॉइन में निवेश से लोगों को भारी मुनाफ़ा होता है, लेकिन इसमें काफी उतार-चढ़ाव होता है, इसलिए जोखिम भी बहुत ज्यादा है |
    • 2013 के अप्रैल में बिटकॉइन की कीमत एक ही रात में 70 फीसदी से गिरकर 233 डॉलर से 67 डॉलर पर आ गई थी | 
  • ऑनलाइन ख़रीददारी से लेन-देन आसान होता है |
  • क्रिप्टो करेंसी के लिए कोई नियामक संस्था नहीं है, इसलिए नोटबंदी या करेंसी के अवमूल्यन जैसी स्थितियों का इस पर कोई असर नहीं पड़ता है |

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) करेंसी के कई नुक़सान हैं : 

  • इसका सबसे बड़ा नुक़सान तो यही है कि ये वर्चुअल करेंसी है और यही इसे जोखिम भरा सौदा बनाता है | 
  • इस करेंसी का इस्तेमाल ड्रग्स सप्लाई और हथियारों की अवैध ख़रीद-फ़रोख्त जैसे अवैध कामों के लिए किया जा सकता है |
  • इस पर साइबर हमले का ख़तरा भी हमेशा बना रहता है, हालांकि एक्सपर्ट्स कहते हैं कि ब्लॉकचेन को हैक करना आसान नहीं है | 
blockchain technology
Blockchain Technology

NOTE :

  • ब्लॉकचेन एक टेक्नोलॉजी, एक प्लेटफॉर्म हैं जहां ना सिर्फ डिजिटल करेंसी बल्की किसी भी चीज को डिजिटल बनाकर उसका रिकॉर्ड रखा जा सकता है।
  • ब्लॉकचैन एक डिजिटल लेजर हैं।
    • खाता-बही या लेजर (ledger) उस मुख्य बही (पुस्तक) को कहते हैं जिसमें पैसे के लेन-देन का हिसाब रखा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.