पाक अधिकृत कश्मीर और गिलगित बाल्टिस्तान

पाक अधिकृत कश्मीर और गिलगित बाल्टिस्तान

पाक अधिकृत कश्मीर और गिलगित बाल्टिस्तान

  • पाक अधिकृत कश्मीर (Pakistan Occupied Kashmir (POK), कश्मीर का वह हिस्सा जिस पर पाकिस्तान ने अवैध रूप से कब्ज़ा किया हुआ है |
  • POK, भारत का हिस्सा है क्योंकि कश्मीर के राजा हरि सिंह और स्वर्गीय पीएम जवाहर लाल नेहरू के बीच इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेसन पर समझौता हुआ था |
सिर्फ समझने के लिए : पाक अधिकृत कश्मीर और गिलगित बाल्टिस्तान

पाक अधिकृत कश्मीर का इतिहास (History of POK)

  • सन 1947 में भारत की स्वतंत्रता के समय, अंग्रेजों ने रियासतों पर अपना दावा छोड़ दिया और उन्हें भारत या पाकिस्तान में शामिल होने या स्वतंत्र रहने के विकल्पों पर निर्णय लेने की आज़ादी दी थी | 
  • जम्मू और कश्मीर के महाराजा ने एक स्वतंत्र प्रभुत्व वाला देश बनाना तय किया था | 

जम्मू-कश्मीर में हमला (Invasion on Kashmir)

  • सन 1947 में महाराजा हरि सिंह के खिलाफ पुंछ जिले में विद्रोह शुरू हो गया था |
    • इस विद्रोह का कारण हरि सिंह द्वारा क्षेत्र में किसान पर दंडात्मक कर लगाना था | 
  • अक्टूबर 21, 1947 को, उत्तरी-पश्चिमी सीमा प्रांत (NWFP) के कई हजार पश्तून आदिवासियों ने इस इलाके को महाराज के शासन से मुक्त करने के लिए विद्रोह कर दिया था | 
    • महाराज के सैनिकों ने इस आक्रमण को रोकने की कोशिश की परन्तु  पाकिस्तान समर्थक विद्रोह आधुनिक हथियारों से लैस थे |
    • उन्होंने 24 अक्टूबर 1947 को लगभग पूरे पुंछ जिले पर नियंत्रण हासिल कर लिया था| 
    • आक्रमणकारियों ने मुजफ्फराबाद और बारामूला के शहरों पर कब्ज़ा कर लिया और राज्य की राजधानी श्रीनगर से उत्तर-पश्चिम में 32-33 KM दूर तक पहुँच गए | 
  • इस बिगड़ती स्थिति को देखते हुए महाराजा हरी सिंह ने 24 अक्टूबर 1947 को भारत से सैन्य मदद की गुहार लगाई |
    • भारत ने कहा कि वह तभी मदद करेगा जब राजा उसके साथ “Instruments of Accession of Jammu & Kashmir to India” पर अपने हस्ताक्षर करेंगे | 
    • इस प्रकार महाराजा हरि सिंह ने जम्मू & कश्मीर की रक्षा के लिए शेख़ अब्दुल्ला की सहमति से जवाहर लाल नेहरु के साथ मिलकर 26 अक्टूबर 1947 को भारत के साथ जम्मू & कश्मीर के अस्थायी विलय की घोषणा कर दी और “Instruments of Accession of Jammu & Kashmir to India” पर अपने हस्ताक्षर कर दिये | 
  • समझौते के बाद भारतीय सैनिकों को तुरंत श्रीनगर ले जाया गया, इसके बाद पाकिस्तान की सेना खुलकर भारत के साथ लड़ने लगी | 
    • इसी लड़ाई के बीच दोनों देशों के बीच यथास्थिति बनाये रखने के लिए समझौता हो गया और जो जिले पाकिस्तान ने हथियाए थे वे उसके पास ही रह गए |
    • इन्हीं हथियाए गए जिलों को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) कहा जाता है जिन्हें पाकिस्तान, आज़ाद कश्मीर कहता है |
Instruments of Accession of Jammu & Kashmir to India
Instruments of Accession of Jammu & Kashmir to India

पाक अधिकृत कश्मीर (POK)

पाक अधिकृत कश्मीर (POK)
पाक अधिकृत कश्मीर (POK)
  • पाकिस्तान ने प्रशासनिक सुविधा के लिए POK को दो भागों में बाँट रखा है | 
    • जिन्हें  आधिकारिक भाषाओं में जम्मू और कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान कहा जाता है| 
    • 27 अप्रैल 1949 तक गिलगित-बाल्टिस्तान पाक अधिकृत जम्मू कश्मीर का हिस्सा रहा |
  • यदि गिलगित-बाल्टिस्तान को हटा दिया जाये तो आज़ाद कश्मीर का क्षेत्रफल 13,300 वर्ग किलोमीटर पर फैला है और इसकी आबादी लगभग 40 लाख है |
  • पाक अधिकृत कश्मीर (POK) में एक राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और एक परिषद है |
    • यह संरचना पूरी तरह से शक्तिहीन है और पाकिस्तान सरकार के अधीन काम करती है | 
  • पाक अधिकृत कश्मीर (POK) की राजधानी मुज़फ़्फ़राबाद है |
  • पाकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर के दक्षिणी हिस्से में 8 जिले हैं:
    • नीलम, मीरपुर, भीमबर, कोटली, मुजफ्फराबाद, बाग, रावलकोट और सुधनोटी | 
  • पाक अधिकृत कश्मीर (POK) के पास अपना सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट भी है |

गिलगित बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan)

  • गिलगित बाल्टिस्तान, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के उत्तर में स्थित पहाड़ी क्षेत्र है।
    • पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के पश्चिमी सिरे पर गिलगित और इसके दक्षिण में बाल्टिस्तान स्थित है |
    • यह इलाका 4 नवंबर 1947 के बाद से ही पाकिस्तान के प्रशासन में है.
  • वर्ष 1846 में सिख सेना को हराने के बाद जम्मू-कश्मीर के शेष हिस्सों के साथ अंग्रेज़ों ने इसे जम्मू के डोगरा शासक गुलाब सिंह को बेच दिया था।
  • अंग्रेज़ों ने जम्मू के डोगरा शासक गुलाब सिंह से इस क्षेत्र को पट्टे (Lease) पर लेकर इस पर अपना नियंत्रण बनाए रखा।
    • यह पट्टा वर्ष 1935 में अंतिम रूप से नवीनीकृत किया गया था।
    • ये इलाका ऊंचाई पर स्थित है, ऐसे में यहां से निगरानी रखना आसान था |
    • यहां गिलगित स्काउट्स नाम की सेना की टुकड़ी तैनात थी |
    • जब अंग्रेज भारत छोड़कर जाने लगे तो इसे जम्मू कश्मीर के महाराजा हरि सिंह को वापस कर दिया गया |
    • हरि सिंह ने ब्रिगेडियर घंसार सिंह को यहां का गवर्नर बनाया |
    • गिलगित स्काउट्स वहीं तैनात रही |
      • उस समय इस फौज के अधिकांश अधिकारी अंग्रेज ही हुआ करते थे|
  • 1947 में जब कश्मीर पर पाकिस्तानी फौज ने हमला कर दिया तो महाराजा हरिसिंह ने भारत के साथ विलय के समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए |
    • इस तरह गिलगित-बाल्टिस्तान भी भारत का हिस्सा बन गया |
    • लेकिन गिलगित-बाल्टिस्तान में मौजूद फौज के अंग्रेज अधिकारियों ने इस समझौते को नहीं माना |
    • वहां फौज ने गवर्नर घंसार सिंह को जेल में डाल दिया |
    • वहां के अंग्रेज फौजी अधिकारियों ने पाकिस्तान के साथ गिलगित-बाल्टिस्तान को मिलाने का समझौता कर लिया |
  • गिलगित बाल्टिस्तान 72,871 वर्ग किमी. में फैला है जिसका आकार पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से लगभग साढ़े पांँच गुना अधिक है।
    • यहाँ की जनसंख्या केवल 20 लाख है।
    • इसको तीन प्रशासनिक प्रभागों और 10 ज़िलों में विभाजित किया गया है।

गिलगित बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) की प्रशासनिक स्थिति

गिलगित बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan)
गिलगित बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan)
  • गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र का कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 72,496 वर्ग किमी है |
  • पाक अधिकृत कश्मीर के हुन्ज़ा-गिलगित के एक भाग, रक्सम एवं बाल्टिस्तान की शक्स्गम घाटी क्षेत्र को चीन को सौंप (5,180 वर्ग किमी क्षेत्र) दिया गया था |
    • तत्कालीन सैन्य तानाशाह जनरल अयूब खान द्वारा 2 मार्च, 1963 को पाकिस्तान और चीन के बीच एक समझौता किया गया|
  • गिलगित-बाल्टिस्तान को तीन डिवीजनों में विभाजित किया गया है जो कि 10 जिलों में बांटे गए हैं |
    • जिनमें गिलगित, स्कर्दू, डायमर, घेसर, हुंजा, नगर, घांचे, अस्तोर, खरमंग और शिगू शामिल हैं |
    • राजनीतिक गतिविधि के मुख्य केंद्र हैं : गिलगित, गेज़र और स्कर्दू |
    • स्कर्दू पाकिस्तान सेना की उत्तरी लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट का मुख्यालय भी है|
  • पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर और गिलगित बाल्टिस्तान दोनों ही सीधे इस्लामाबाद से शासित हैं |
    • इन क्षेत्रों को आधिकारिक तौर पर पाकिस्तान के क्षेत्र के रूप में सूचीबद्ध नहीं किया गया है।
  • पाकिस्तान के सिर्फ चार सूचीबद्ध प्रांत हैं जिनमें पंजाब, खैबर पख्तूनख्वा, बलूचिस्तान और सिंध शामिल हैं।
  • पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर और गिलगित बाल्टिस्तान दोनों भारत की जम्मू-कश्मीर राज्य के अभिन्न हिस्से हैं।

3 thoughts on “पाक अधिकृत कश्मीर और गिलगित बाल्टिस्तान

Leave a Reply

Your email address will not be published.