IAS PRELIMS 2019 QUESTION 1 : व्याख्या

IAS PRELIMS 2019 QUESTION 1 : व्याख्या

IAS PRELIMS 2019 QUESTION 1. मुग़ल भारत के संदर्भ में, जागीरदार और जमींदार के बीच क्या अंतर है/हैं?

  1. जागीरदारों के पास न्यायिक और पुलिस दायित्वों के एवज में भूमि आबंटन का अधिकार होता था, जबकि जमींदारों के पास राजस्व अधिकार होते थे तथा उन पर राजस्व उगाही को छोड़कर अन्य कोई दायित्व पूरा करने की बाध्यता नहीं होती थी।
  2. जागीरदारों को किए गए भूमि आबंटन वंशानुगत होते थे और जमींदारों के राजस्व अधिकार वंशानुगत नहीं होते थे।

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए।

a)केवल 1

b)केवल 2

c)1 और 2 दोनों

d)न तो 1, न ही 2

IAS PRELIMS 2019 QUESTION 1 : व्याख्या

  • अकबर ने अपने दरबारी अबुल फज्ल को आदेश दिया कि वह उसके शासनकाल का इतिहास लिखें | 
    • अबुल फज्ल ने यह इतिहास 3 जिल्द में लिखा और इसका शीर्षक है अकबरनामा | 
    • पहली जिल्द में अकबर के पूर्वजों का बयान है और दूसरी अकबर के शासनकाल की घटनाओं का विवरण देती है |
    • तीसरी जिल्द आइने-अकबरी है | 
      • इसमें अकबर के प्रशासन, घराने, सेना, राजस्व और साम्राज्य के भूगोल का ब्यौरा मिलता है |
      • आइने-अकबरी में विविध प्रकार की चीजों : फसलों, पैदावार, कीमतों, मजदूरी और राजस्व का संक्षिप्त विवरण  की भी जानकारी मिलती है | 
  • मुगल साम्राज्य बहुत से सूबों या प्रांतों में बटा हुआ था | 
    • प्रत्येक सूबा बहुत-सी सरकारों में बटा हुआ था और प्रत्येक सरकार बहुत से परगनों में विभाजित थी |
    • कई गांव के एक समुदाय से एक परगना बनता था |

वेतन और जमीनदारी

  • बहुत से अधिकारियों को भूमि के लगान का अनुदान मिलता था जिसको जागीर कहते थे |  
    • अधिकारी अपनी जागीर से लगान वसूल करते थे जो उनके वेतन के बराबर होता था क्योंकि इन अधिकारियों को लगान के अनुदान से वेतन दिया जाता था |
    • कोई भी सौंपी जाने वाली जागीर स्थाई अथवा वंशानुगत नहीं थी |
    • सम्राट किसी भी समय जागीर  के एक भाग अथवा संपूर्ण जागीर को अपने क्षेत्राधिकार के एक भाग से दूसरे भाग में स्थानांतरित कर सकता था |
  • मध्यकाल में खेती के लायक काफी प्रति ज़मीन उपलब्ध थी |
    • थोड़े से उद्यमी लोगों के लिए, आपस में मिलकर अपने प्रयत्नों से नया गांव बसा लेना या  किसी गांव की परती ज़मीन को आबाद करके उस ज़मीन का मालिक बन जाना कोई मुश्किल बात नहीं थी | 
    • वह जिस ज़मीन को जोतते थे उसके तो स्वामी होते ही थे |
      • साथ ही एक बहुत बड़ा तबका ऐसे जमींदारों का भी होता था जिन्हें कई गांव से भू राजस्व वसूली करने का वंशानुगत अधिकार प्राप्त रहता था | 
    • यह उस जमींदार का तालुका या जमीनदारी कहलाता था | 
    • वसूली के इस काम के लिए उन्हें भू-राजस्व में हिस्सा दिया जाता था |
      • कुछ क्षेत्रों में तो 25% तक भी होता था |

One thought on “IAS PRELIMS 2019 QUESTION 1 : व्याख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published.